Whatsapp और signal app आपको end to end encrypted security की सुविधा देती है। ये बात तो आप सुना होगा। पर क्या आपको पता है कि ये end to end encrypted kya hai? यदि आपकी इसके बारे में कुछ भी नहीं पता। आप सिर्फ इस term को किसी के मुंह से या  किसी article में देखके यहां पर जानने आये हो। तो आपको बतादु की आप यदि इस term के बारे में पूरी जानकारी लेना चाहते हो तो इस article को पूरा अंत तक पढ़ो। इस artcle में आपको बताऊंगा End to end encryption meaning in hindi। मतलब आपको यहां end to end encryption के बारे में पूरी जानकारी मिलेगा। तो चलिए बिना देती किये सुरु जरते है।




    End To End Encryption meaning in hindi.

    End To End Encryption kya hai? End To End encryption meaning in hindi.

    End to end encrypted ये term से आपको सिर्फ ये पता चल रहा है कि एक अंत से दूसरे अंत तक encryption। पर आपको यहां पर ये encryption का मतलब समझ नहीं है। तो सबसे पहले आपको ये जानलेना होगा कि encryption kya haiencryption meaning in hindi। तो चलिए सबसे पहले encrypted के बारे में जानते है उसके बाद end to end encrypted के बारे में जानेगे



    Encryption क्या है? - Encryption Meaning in hindi.

    Encryption kya hai, encrypted meaning in hindi, end to end encryption kya hai,

    Encryption का meaning है किसी simple भाषा या data को दूसरे कोई अनजान लोग के पास पहुंच रोकने के लिए code भाषा में बदल देने की प्रक्रिया। मतलब encryption आपकी किसी भासा या data को कुछ ऐसे code भाषा में बदल देता है कि कोई अनजान लोग उस code भाषा को देखेगा तो उसको आपकी data क्या है वह समाज नहीं आएगा।


    Example :-
    आपको एक उदाहरण देकर समझा देता हूं।
    सोचो आपका एक दोस्त है उसका नाम है राम और वह  दूर कहीं रहता है। तो आप एकदिन उस दोस्त राम को एक पत्र लिखा। उस पत्र में आप आपकी एक गुप्त बात आपकी भासा हिंदी में लिखा। और आप उस पत्र को आपकी और एक दोस्त श्याम को देके राम के पास भेजा। पर श्याम रास्ते मे आपकी पत्र पर लिया। और आपकी गुप्त बात श्याम को पता चल गेया। और ये आपके लिए बहुत खतरा बन गया।


    पर आप उस पत्र में आपकी जो गुप्त बात है वह आप आपकी हिंदी भासा में ना लिखके आप यदि एक code भाषा में लिखके उस पत्र को श्याम को देके भेजते थे। और आप दूसरा एक पत्र में उस code को कैसे पढ़े उसके तरीका लिखके आप आपकी दूसरे दोस्त मधु को देके भेजते थे। तो श्याम आपकी code भासा की पत्र परके कुछ समाज नहीं पता और  मधु को एक simple तरीका देखके कुछ समाज नहीं आता। इसे आपकी जो गुप्त बात है वह बात को राम के अलाभा दूसरे किसीको नहीं पता चलता। इससे आपकी बात secure हो जाता।


    इसी simple भासा से message या data को  code भाषा में बदल देने की तकनीक को encryption कहते है। और पुराने दिन से लेकर आज की दिन तक इसी encryption technique के वजह से हर data safe और securely transfer हो पाता है।


    Normal life में आप देखा कि आप किसी हिंदी भासा की message को code भाषा में बदल देने के बाद उस code भासा को समझ ने के लिए उस code भाषा को हिंदी भाषा में बादल ने की तरीका अलग से बताना पड़ता।


    पर internet की दुनिया मे ऐसा नहीं होता। Internet की दुनिया मे encryption एक programing algoritham के ऊपर काम करता है। मतलब internet में आपकी message या data खुद ही encrypted हो जाता है। और फिर उस encryption को पढ़ने के लिए खुद ही decrypt हो जाता है। Encrypted data को फिर पड़ने लायक बनाने के तरीका को decryption कहते है। इसी encryption और decryption के लिए एक key की जरूरत होती है। उस key को programing algoritham के मदत से बनाया जाता है। और इस key को system में set किया जाता है। internet की दुनिया मे इसी key algoritham के मदद से आपकी encrypted message खुदसे decrypted हो जाता है। वह key जिसके पास होगा वही आपकी message या data देख पायेगा या पढ़ पायेगा। इसी तरीके को use करके internet में data hack या चोरी होने से सुरक्षित रखा जाता है।




    Encryption technique कब से सुरु हुया? - History of encryption.

    Encryption के बारे आपको थोराह idea मिल गए होंगे। पर इसको अच्छे से जानने के लिए इसके history भी जानना जरूरी है। तो चलिए बता देते है।


    Encryption का technique का सुरु किया था रोमान सम्राट Julius Caesar


    पुराने जमाने मे सभी गुप्त संदेश संदेश बहुके द्वारा भेजा जाता था। तब किसी दुश्मन राजा उस संदेशबहोक को रास्ते मे बन्दी बनाके गुप्त संदेश परलेता था। और राज्यो की गुप्त संदेश leak होने का खतरा लगा रहता था।


    इसी समय रोम साम्राज्य के राजा Julius Ceasar स्वन्देश को एक code में बदल कर भेजना सुरु किया। Ceasar स्वन्देश को एक ऐसा code में बदल देता, की उस code में क्या लिखा है वह सिर्फ seasar और जिसको वह स्वन्देश भेज राह उसके इलाभा कोई पढ़ नहीं पता। इससे रास्ते मे कोई दुसमन उस स्वन्देश को छीन लेता था तो उस code स्वन्देश में क्या लिखा है वह उसको नहीं समझ आता। इससे दुसमन से राज्यकी गुप्त स्वन्देश सुरक्षित रहता था। और इसी time से start हुया encryption का technique।


    उसके बाद सबसे पहले जर्मन सोइनिक ने world war 2 में इस encryption technique को electric मशीन में इस्तेमाल किया। जर्मन सोइनिक ने encrypt तरीके से electronic message भेज ने के लिए एक machine बनाया। उस machine का नाम था Enigma Mechine। उस machine के जरिये जर्मन सोइनिक encryption तरीके से गुप्त message भेजता था। उसके बाद से encryption technique internet में use होना start हुया।


    और पढ़ें:- 

    Raji : An Ancient Epic Game kya hai?


    eSim क्या है?


    Encryption कितने प्रोकर की होते है? - Type of encryption in hindi.

    आपको पहले बताया कि encryption और decryption के लिए एक key की जरूरत होती है। तो इस key के हिसाब से Encryption को दो प्रकार में भाग किया गया है। वह है


    1) Symmetric encryption 


    2) Asymmetric Encryption



    1) Symmetric encryption क्या है?

    Symmetric encryption में encryption और decryption के लिए एक ही key होता है। जब आप कोई data को encryption करके किसीको भेजते हो तब उस encryption message के साथ वही key को भेजना पड़ता है। तभी जिसिको message भेज रहे हो वह आपकी message पढ़ पायेगा।



    2) Asymmetric Encryption क्या है?

    Symmetric encryption में आप देखा कि encryption और decryption करने के लिए एक ही key होता है। पर asymmetric encryption में आपको दो key की जरूरत है। एक key का नाम है Public key और एक का नाम है Private Key। whatsapp जैसे messaging app में इसी तरीके को use करके encryption किया जाता है। इसमें हर user के पास दो key होता है। एक private की जो key user की खुदका होता है और अलग अलग होता है। और public की सबके पास होता है। ये किसीका अलग नहीं होता। आप आपकी public key को use करके किसी message को encrypt करके किसी दूसरे user को भेजो गे तब जिसिको आप उस मैसेज भेजा वह उसकी private key से उस message को decryt करके पढ़ पायेगा।



    End To End encryption क्या होता है? -End To end encryption meaning in hindi?

    आप encryption के बारे में जानगये होंगगे। पर अब आपको बता देता हूं end to end encryption meaning in hindi।


    अब आप इस word को देखके समझ गए होंगगे कि end to end encryption का meaning है किसी message अंत से अंत तक code भासा में विन्यास। मतलब यहां पर user की data एक user से दूसरे user तक encrypt रहता है। end to end encryption में बाहर का कोई encrypt message को decrypt नहीं कर पायेगा।


    जैसे normal encryption में जब आप किसी messenger के माध्यम से किसी को message भेज रहे हो तो वह message आपके पास से encrypted होके उस messager की server जाता है। और server के पास आपकी encryption message की decrypted करने का key होता है। तो server में जाके फिर आपकी encrypted message decrypted होता है। और फिर server उस message को फिर encrypt करता है और फिर आप जिसिको भेज रहे हो उसके पास encryption message भेज देता है।


    पर end to end encryption में ऐसा नहीं होता। end to end encryption में server के पास decrypt करने का कोई key नहीं होता। इससे server के पास आपकी encryption message जाता उसके बाद फिर उस encryption message को आप जिसको भेज रहे हो उसके पास भेज दिया जाता है। और आप जिसिको message भेजा उसके पास आपकी encryption message को decrypt करने का key होता है। और वह उस key से आपकी message decrypt करता है और आपकी message पढ़ पता है।

    End to end cncryption में server चाहकर भी आपकी message नहीं पर पायेगा। इसी तरह end to end cncrypted काम करता है और ये user to user काम करता है।



    Whatsapp End to end encryption meaning in Hindi - whatsapp में end to end encryption का मतलब?

    Whatsapp messaging app में आपको end to end cncryption का सुविधा मिलती है। मतलब whatsapp में जब आप किसी ब्यक्ति को message भेजते हो तब वह message आपके पास से encrypt होके सीधा जिसको आप message भेजा उसके पास जाकर decrypte होता है।


    इससे whatsapp की server में भी आपकी encryption message decrypt नहीं होता। मतलब whatsapp में आप जो message या कुछ data send कर रहे हो वह message या data आप और आप जिस को send कर रहे हो उसके इलाभा कोई नहीं देख पायेगा। whatsapp भी नहीं। कयूकी whatsapp end to end encryption के ऊपर काम कर रहा है।



    End to end encryption video call meaning in hindi? - end to end encryption video call का मतलब क्या है?

    End to end encryption video call meaning जब आप किसी application के माध्यम से video call करते हो तब आपकी call आपसे आप जिसिको call कर रहे हो उसके पास encrypted form में मतलब code भासा में बदल के जाते है। इसे आपकी call जाने के समय कोई hacker आपकी call को सुनना चाहता है तो वह कुछ नहीं सुन पायेगा। और आप जिस app के माध्यम से बात कर रहे हो उस app की server भी नहीं देख पायेगा या नहीं सुन पायेगा।


    Video और audio call में end to end encryption की सुबिधा देने बला कुछ app का नाम है whatsapp, Telegram, Signal etc.





    End to end encryption की Advantage और Disadvantage क्या क्या है?

    End to end encryption की बहुत सारे advantage भी है और disadvantage भी है।


    End to end encryption की advantage ये है कि ये आपकी data बहुत secure कर देता है। इससे आपकी privacy internet में सुरक्षित होता है। कोई अनजान hacker आपकी data चुरा नहीं पायेगा और गलत इस्तेमाल भी नहीं कर पायेगा।


    End to end encryption की disadvantage है कि internet की इस privacy technique को use करके बहुत ऐसे लोग जो गलत काम करते है वह गलत करेगा। और इसे सरकार के लिए इन सारे लोगोको track करना मुश्किल हो जाएगा।



    End to end encryption से जुड़े कुछ सभाल जो लोग हमेशा पूछा करते है। - FAQ

    आप आपको कुछ ऐसा सवाल के जबाब देता हूं जो लोग ज्यादा पूछा करते है।



    1) Encryption क्या है? 

    Ans) किसी normal data को ना समझने वाला भाषा मे या Code में बदल देना को Encryption कहते है। encryption data बीच मे दूसरे कोई लोग पढ़ नहीं पाता।



    2) End To end encryption meaning in Hindi?

    Ans) Internet में जब किसी data को जब आपसे encrypted होके आप जिसको उस data भेज रहे हो उसके पास decrypt होता है। इससे आपकी data server में भी decrypt नहीं होता। इसको end to end encryption कहते है।


    3) क्या End to end encryption safe है?

    Ans : - जी हां। End to end encryption safe है आपके लिए। ये आपके private data को protect करते है।


    4) क्या End to end encryption message leak हो सकता है?

    Ans : - जी नहीं। End to end encryption जब तक decrypt नहीं होगा तब तक data leak नहीं हो सकता। और किसी अनजान के पास end to end encryption को dicrypt करने का key होगा मतलब आप जिसको message कर रहे हो उसका device या उसकी messanger account किसी अनजान लोगों के पास चला जाये तो leak हो सकता है। पर normaly end to end encryption message बीचमे leak नहीं होता।


    5) कौन सी app में end to end encryption का सुबिधा मिलता है?

    Ans : - Signal messaging app, Whatsapp messaging app, telegram secrect chat में ये सुबिधा मिलता है।


    6)Encryption key क्या है?

    Ans : - Encryption key एक algoritham है। जो algoritham data को decrypt करता है।


    7)Decryption क्या है?

    Ans : - किसी encrypt data को readable data में परिबर्तन करने का method को decrypt कहते है।


    और पढ़ें:- 

    Google People card क्या है?


    Instagram Reels क्या है?




    Conclusion

    आजकी इस article में आप जाना encryption meaning in hindi? और end to end encryption meaning in hindi। यहां पर आपको encryption के बारे में पूरी जानकारी देने की कोशिश किया है हिंदी में। में हमेशा से कोशिश करता हु की इस website के मदत से आपको सही और पूरी जानकारी देने की। मेरा ये कोशिश कितना सफल हो रहा है या नहीं मुझु जरूर बताये। और इस article में कुछ गलत लिखा हुआ है तो सुधार करने में मदत करे। में उमीद करता हु की मेरा ये पोस्ट आपको अच्छा लगा। अच्छा लगे तो जरूर social media में share कर देना। जैसे और भी लोगोको end to end encryption के पता चले।


    Thank You

    Post a Comment

    नया पेज पुराने