GDP क्या है और GDP का full Form क्या है पूरी जानकारी?

GDP kya hai?, GDP kaise calculate karte hai?

GDP क्या है और GDP का full Form क्या है पूरी जानकारी?

GDP के बारे में आप कहीं ना कहीं सुनहि होगा। TV news में , news paper में, या किसीके मुंह से। आप ये सुना होगा कि india की GDP में 5% की बढ़ोतरी हुआ है या India की GDP में 5% की कमी हो गेया। तो ये सुनके आपकी दिमाग में ये question जरूर आये होंगे कि ये GDP क्या है?, GDP का full form क्या है? और GDP कैसे calculate करते हैं? 


तो आप GDP के बारे में जानने के लिए यह आये हो और आप GDP के बारे में जानने में intersted हो तो इस article को पूरा मन लगाके अंत तक पढ़ना। उमीद करता हु की इस article को पढ़ने के बाद GDP के बारे में आपकी सारे doubt clear हो जाएगी।


GDP एक ऐसा पद्धति है जिसको use करके किसीभी देख की अर्थव्यवस्था कितनी मजबूत है वह पता लगाया जा सकता है। मतलब GDP एक तरह की Indecator है जो कि सभी देख की अर्थव्यवस्था की हालत indecate करते है। मतलब किसी देख की GDP में गिरबत होती है मतलब उस देश की अर्थव्यवस्था में गिरबत हुहि है। और किसी भी देख की अर्थब्यवस्था जितना खराब होगी उस देख की development उतना कम होगी। मतलब किसीभी देश की development के लिए GDP एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। इसलिए किसी भी देश के हर नागरिक को उस देश की GDP के बारे में जानकारी रखना बहुत जरूरी है। तो चलिए आपको GDP के बारे में बता देते है।





    GDP का full form क्या है? - Full form of GDP in Hindi

    GDP का full form है

    Gross Domestic Product


    (ग्रॉस डोमेस्टिक प्रोडक्ट).


    हिंदी में GDP का Full Form है

    सकल घरेलू उत्पाद।



    GDP क्या है? - What Is GDP In Hindi?

    किसी भी एक देश की सीमा के अंदर एक साल में जितना बस्तु एवं सेवा उत्पादित किया जाता है उनका कुल मूल्य या अंतिम मूल्य को GDP या Gross Domestic Product कहते है। मतलब GDP count करने के लिए किसीभी देख की उत्पादित बस्तु और सेवा की कुल मूल्य को count करते है। यह पर कुल मूल्य या अंतिम मूल्य का मतलब कीसीभी बस्तु को normal customar जिस price में खरीद ते है उसी price को count करते है।


    एक example से समाज लो :-

    सोचो आपके पास एक mobile है और उस mobile का price 10000 है। यह पर GDP में इसी मूल्य को count किया जाएगा। mobile के अंदर जितने सारे बस्तु है जैसे Camera, Processer, Battery उसका अलग अलग price होता है उस price को GDP में अलग से count नहीं किया जाता। और यह पर moblie का price है उन सारे बस्तु का अंतिम मूल्य या कुल मूल्य।


    इसी तरह सेबा में भी अंतिम मूल्य को count किया जाता है।


    यह पर बतादु की GDP में count होने बाले बस्तु और सेबा का मतलब सिर्फ सरकार की बनाया हुआ सेबा और बस्तु नहीं, यह पर एक देश के सिमा के अंदर जितना बस्तु और सेबा उत्पादित होता है वह सब को GDP में count किया जाता है। वह सेबा या बस्तु उस देश की सरकार या company की बनाया हुआ हो सकता है या दूसरे देश की company की द्वारा बनाया हो सकता है वह सब बस्तु और सेबा को GDP में count किया जाता but वह बस्तु और सेबा देश की सीमा के अंदर बानी होना चाहिए।


    Example :

    सोचो India में 1 साल में 3 mobile बनाया गेया है।
    उनमे से एक mobile indian Goverment ने बनाया।
    एक mobile india की किसीभी company ने बनाया।
    और एक दूसरे देश की company ने बनाया।


    उन सारे mobile की एक एक कि price 10000 rupee।


    तो उन तीन mobile की total price 30000 rupee।


    तो यह पर India की GDP 30000 rupee है।


    इसी तरह किसीभी देश की GDP count होता है।


    और पढ़ो :-




    GDP की इतिहास। -  History of GDP in Hindi

    एक American Economist Simon Kuznets ने 1935 - 1944 में first GDP शब्द का use किया था किसीभी देश की अर्थव्यवस्था मापने के लिए। एक ऐसा time था,  जब विश्व की बड़ी बड़ी bank ने किसीभी देश की आर्थिक विकास को calculate किया था। but इस time ऐसा कोई पद्धति नहीं था जहासे किसीभी देश की आर्थिक विकास को आसानी से समझ कर लोगो समझाया जा सके।


    और इसी time, इस problem को देखते हुए US congress की सदस्य और US economist Simon Kuznets ने congress की एक report में GDP के बारे में बताया। जिसको use करके किसीभी देश की आर्थिक बिकाश को आसानी से समझा जा सकता है। 


    अंतर्राष्ट्रीय मुद्रा कोष (IMF) ने इस शब्द का use करना start कर दिया। उसके बाद से दुनिया की सकभी देश GDP का use करना चालू किया।



    GDP कैसे calculate किया जाता है? - How GDP Is Calculated In Hindi?

    GDP को तीन क्षेत्र में calculate किया जाता है। वह तीन क्षेत्र है प्राथमिक क्षेत्र, दुतीयक क्षेत्र, तृतीयाक क्षेत्र


    प्राथमिक क्षेत्र  में कृषि को count किया जाता है,

    दुतीयक क्षेत्र में उद्दोग को count किया जाता है और 

    तृतीयक क्षेत्र में  सेबा को count किया जाता है।


    उसके बाद इस तीन क्षेत्र को  जोर कर GDP calculate किया जाता है। यह पर कृषि, उद्दोग और सेबा को GDP का गटक कहा जाता है।


    GDP में इन सारे चोजो को एक formula से calculate किया जाता है। अब आपको उस फार्मूला के बारे में बता देते है।



    जीडीपी की गणना करने का सूत्र क्या है? - GDP calculation formula

    GDP को calculate करने के लिए व्यक्तिगत उपभोग वाले खर्चे, व्यवसायिक investment और सरकारी खर्चे को जोड़ा जाता है इसके साथ निर्यात किए गए बस्तु को आयात किए गए बस्तु से गटके फिर इसे अंत मे जोड़ दिया जाता है. इसी formula को use करके GDP को calculate किया जाता है। अब इस formula को simple में समाज ते है।


    GDP = C + I + G + (X – M)


    GDP = PRIVATE CONSUMPTION + GROSS INVESTMENT  + GOVERNMENT SPENDING + (EXPORTS – IMPORTS).


    C – Private consumption(व्यक्तिगत उपभोग)


    I – Gross investment(व्यवसायिक investment)


    G – Government spending(सरकारी खर्चे)


    X – Exports(निर्यात)


    M – Imports(आयात)


    व्यक्तिगत उपभोग (private consumption)

    ब्यक्तिगत उपभोग मतलब घरेलू खर्च जो होता है। जैसे खाने का खर्च, चिकिस्ता का खर्च इसी तरह की खर्च को ब्यक्तिगत खर्च या उपभोग कहते है। इस उपभोग में नया गर को सामिल नहीं किया जाता।


    व्यवसायिक investment(Gross Investment)

    ब्यबसायिक investment का मतलब ब्यबसायिक आपकी business start करने के लिए या business को बारे बनाने के लिए जो निबेस करते है वही ब्यबसायिक investment है। जैसे किसी company की नैया कोई mechine खरीदने के लिए खर्च, या कोई सेबा जैसे hospital बनाने में जो खर्च या निबेस है बही।


    सरकारी खर्च(Government spending)

    सरकारी खर्च का मतलब सरकार देश को अच्छे बनाने के लिए जो खर्च करते है वह। इसमें कोई रास्ता बनाने का खर्च, या सेना के लिए हतियार खरीदने का खर्च या सरकार द्वारा किया गया निवेश आदि सरकारी खर्च के अंदर होता है।


    निर्यात(Export)

    किसी देश की बनाया हुआ बस्तु दूसरे कोई देश मे भेजना या बेचना है निर्यात। जैसे india की कुछ बस्तु किसी दूसरे देश मे जैसे चैन को भेजा, उसे export या निर्यात कहते है।


    आयात(import)

    किसी दूसरे देश की बस्तु अपने देश की जरूरत के लिए लाया जाता है, इसे import या आयात कहते है। जैसे India किसी दूसरे देश जैसे chaina से कुछ खरीदा और india में ले आया इसे आयात कहते है।


    इसी formula को use करके GDP calculate किया जाता है।



    India में GDP कौन calculate करते है?

    India में सकल घरेलू उत्पाद calculate करने लिए एक समस्या है, उस समस्या का नाम है केंद्रीय सांख्यिकी कार्यालय (CSO)। 


    CSO मतलब केंद्रीय सांख्यिकी कार्यालय सकल घरेलू उत्पाद calculate करने के लिए एक आधार बर्ष या base year का निर्धारण कर देते है। और उसी आधार बर्ष के हिसाब से GDP calculate होता है। अभी इस 2020 साल में india की आधार बर्ष है 2011-12। But CSO इस आधार बर्ष को change करके 2017-18 करने की सोच रहा है।



    आधार बर्ष या Base year क्या होता है?

    आधार बर्ष एक ऐसा बर्ष होता है जो बर्ष को CSO द्वारा निर्धारित किया जाता है। और इस आधार बर्ष की बस्तु की मूल्य की हिसाब से हर सालकी Real GDP को calculate किया जाता है। जैसे 2018-19 कि जो real GDP है वह 2011-12 की बस्तु की मूल्य की हिसाब से calculate किया गेया।



    GDP Percentage में कैसे निकलते है? -  How to Calculate GDP Percentage?

    आप देखा होगा कि tv news and news paper news में अक्सर बताया जाता है को india की GDP 5% growth हुया है 6% growth हुया है।But यहां पर सबाल यह है कि ये GDP को percentage में कैसे calculate किया जाता है। तो चलिये बता देते है।


    GDP percentage में निकलने के पहले GDP = C + I + G + (X – M) ईस formula को use करके हर साल GDP calculate किया जाता है। उसके बाद CSO द्वारा select किया गेया base year या आभार बर्ष के मुकाबले बाकी साल में GDP कितना % growth हुआ और कितना % decrease हुया वह percentage में निकाला जाता है। इसी तरह GDP को percentage में calculate किया जाता है। और इसी percentage को use करके दूसरे देश के साथ compear किया जाता है।


    और एक बात याद रखना की किसीभी देश की GDP हमेशा Dollar में calculate किया जाता है।



    GDP कितने प्रोकर के होता है? - What is Type of GDP in hindi?

    GDP की calculation की हिसाब से दो प्रोकर की होता है। 


    1.Nominal GDP या नाममात्र GDP


    2.Real GDP या वास्तविक GDP


    1.Nominal GDP या नाममात्र GDP : -  

    किसीभी देश की 1 साल की GDP निकलने के time जो बस्तु और सेबा की मूल्य जोड़ा जाता है वह मूल्य उसी साल की बाजार मूल्य होता है, इस GDP को Nomina Gross Domestic Product या नाममात्र सकल घरेलू उत्पाद कहा जाता है। मतलब Nominal GDP हमेसा किसीभी साल की Current price या बर्तमान कीमत के ऊपर निकाला जाता है।


    एक उदाहरण से समझ लो : -

    सोचो India में 2019 में 3 Mobile बना है।


    और 2019 में उन एक एक Mobile का कीमत 10000 है।


    तो 3 Mobile की price को जोड़ा जाए तो 3 × 10000 = 30000 रुपया हो रहा है।


    तो india की 2019 का नॉमिनल GDP 30000 रुपया है।


    इसी तरह nominal GDP बर्तमान price पर निकल जाता है।



    Real GDP या वास्तविक जीडीपी :-

    किसीभी देश की 1 साल की GDP निकलने के  लिए जो बस्तु और सेबा का मूल्य जोड़ा जाता है वह मूल्य Base year या आधार बर्ष के बाजार मूल्य होता है, इसी GDP को real gross domestic product या बास्तविक सकल घरेलू उत्पाद होता है। मतलब किभी देश की real GDP निकलने के लिए उस देश की आधार बर्ष की बाजार मूल्य को जोड़ा जाता है।


    एक उदाहरण से समझ लो : -

    सोचो India में 2019 में 3 Mobile बना है।


    तो 2019 में india की base year 2011-12 था।


    और उस आधार बर्ष 2011-12 में एक Mobile का कीमत 8000 रुपया था।


    तो 3 Mobile की price को जोड़ा जाए तो 3 × 8000 = 24000 रुपया हो रहा है।


    तो india की 2019 का Real GDP 24000 रुपया है।
    इसी तरह किसीभी देश की Real GDP आधार बर्ष की price के ऊपर निकाला जाता है।



    Nominal GDP vs Real GDP

    आप जान गए होंगे कि nominal GDP क्या है और Real GDP क्या। अब आपको बता देते है कि इन दोनों में क्या क्या difference है।


    1: Nominal GDP current price मतलब बर्तमान मूल्य के ऊपर निर्धारित होती है और Real GDP हमेशा Base year या आधार बर्ष की बाजार मूल्य के ऊपर निर्धारित  होता है।


    2 : Nominal GDP Inflation या मुद्रास्फीति से प्रोभबित है Real GDP मुद्रास्फीति से प्रोभबित नहीं है।


    3 : Nominal GDP हमेशा Real GDP से ज्यादा होता है और ये होना भी चाहिए। 


    4 : Nominal GDP को calculate करना आसान है क्योंकि यहां पर हर price बर्तमान होता है इसलिते और Real GDP calculate करना थोराह मुश्किल है कुकी बर्तमान में ऐसा बहुत सारे बस्तु बनती है जो आधार बर्ष में नहीं बनी इसलिए उस बस्तु का मूल्य calculate करना थोराह कठिन होता है।


    5 : Nominal GDP किसी भी देश की मुद्रास्फीति को दर्शाता है और Real GDP किभी देश की कितना बस्तु ज्यादा उत्पादन हो रहा है वह दर्शाता है।



    GDP growth की फायदा क्या है? - What is benefits of GDP growth?

    GDP के बारे में तो जनचुके हो अब आपको बताते है कि किसी देश की GDP Growth होता है तो क्या फायदा होगा।


    बेरोजगार काम होगी :-

    किसी देश की GDP बारजाने का मतलब उस देश में उत्पादण भी बहुत हो राह है। और बहुत उत्पादण होने का मतलब बहुत सारे लोगोको नोखरी मिलेगा। इसे बहुत सारे लोगोको रोजगार मिलेगा। इसे बेरोजगार लोगो की संख्या कम हो जाएगी।


    सरकार की कर्ज काम होगी : -

    GDP ज्यादा होने के बजह से सरकार को Tax ज्यादा मिलेगी। इससे देश की कुछ काम में खर्च करने के लिए सरकार को दूसरे देश से कर्ज लेना नहीं पड़ेगा।


    देश Develop होगी : -

    देश की GDP growth होने से देश की develop होगी। सरकार public काम जैसे रास्ता बनाने में, नया school college बनाने में ज्यादा खर्च कर पायेगी। इसके अलाभा नया कुछ research करने के लिए जो खर्च होता है वह उठा पाएगी।


    इसी तरह बहुत सारे फायदा होगी GDP growth होने पर।



    Conclusion

    आज की इस article में आपको बताया GDP क्या है? (What is GDP in Hindi), GDP का Full form क्या है ?  और ये भी बताया कि GDP को calculate कैसे करते है। उमीद करता हु की इस article से आपको GDP के बारे में पूरी जानकारी मिलगये होंगे। इसके अलाभा GDP के बारे में आपके मन मे कुछ सवाल है तो जरूर पूछना। और इस article को आपको अच्छा लगा तो जरूर अपने सारे दोस्तो के साथ share कर देना। आज के लिए इतनाही।

    Thank You

    Keep Reading...
    Keep Visiting...

    Post a Comment

    0 Comments